गोरखपुर-राजधानी लखनऊ के वीवीआईपी गेस्ट हाउस में घटी एक घटना ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी हिला कर रख दिया है.उनके गैर राजनीतिक संगठन हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील सिंह ने बगावती तेवर अपनाते हुए हिंदू युवा वाहिनी के कुछ कार्यकर्ताओं के साथ गेस्ट हाउस में बैठक कर खुद को राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया,इसके बाद यह पूरा मामला सोशल मीडिया पर छा गया है.

सूत्रों की मानें तो लखनऊ में हिंदू युवा वाहिनी का नेता जब अपने समर्पित और सहयोगी कार्यकर्ताओं के साथ मीटिंग कर रहा था तो प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के जीडीए सभागार में जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक कर रहे थे.सीएम योगी गोरखपुर से करीब दो बजे लखनऊ के लिए रवाना हुए थे.जानकारी के मुताबिक वीवीआईपी गेस्ट हाउस में हिंदू युवा वाहिनी की हुई इस बैठक के लिए जिस व्यवस्था अधिकारी ने इजाजत दी थी,उसे मुख्यमंत्री के निर्देश पर निलंबित कर दिया गया है.

राजधानी में रविवार को जो कुछ घटित हुआ उससे न सिर्फ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संगठन को लेकर सवाल खड़ा हुआ, बल्कि सुनील सिंह ने इस बैठक में खुद को राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित करने के साथ बगावती तेवर का रुख साफ किया है.उन्होंने खुद के चयन की फोटो अपनी फेसबुक वॉल पर पोस्ट भी की है.इसमें हिंदुत्व की रक्षा के लिए युवाओं से आगे आने की अपील भी की है.वही यूपी सरकार ने वीवीआईपी गेस्ट हाउस का व्यवस्था अधिकारी सस्पेंड आर.पी. सिंह को सस्पेंड कर दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here