म्यांमार सेना द्वारा रोहिंग्या मुसलमानों के जनसंहार के बाद बांग्लादेश,हज़ारों रोहिंग्या शरणार्थियों को बंगाल की खाड़ी के एक द्वीप में रखने की योजना बना रहा है.

रायटर के अनुसार बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ” शेख हसीना ” के राजनीतिक सलाहकार ” एचटी इमाम ” ने कहा है कि मियांमार की सेना के अत्याचारों से जान बचाकर बांग्लादेश पहुंचने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को रोकना संभव नहीं है इसी लिए बांग्लादेश ने अंतरराष्ट्रीय संगठनों से मांगकी है कि वह ” थेन्गार चार ” द्वीप में रोहिग्या मुसलमानों के रहने के लिए हालात बनाएं.

याद रहे गत 25 अगस्त से रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ म्यांमार की सेना ने एक बार फिर जनसंहार और हमलों का सिलसिला शुरु कर दिया है जिसमें अब तक चार सौ से अधिक लोग क्रूरता के साथ मार डाले गये। कुछ सूत्रों ने मारे जाने वाले रोहिंग्या मुसलमानों की संख्या एक हज़ार तक बतायी है।

तुर्की ने वित्तीय मदद का एलान किया
तुर्की के विदेश मंत्री Mevlüt Çavusoglu ने बांग्लादेश से अपील की है कि वह रोहिंग्या मुसलमानों के लिये अपनी सीमाओं को खोल दे, बांग्लादेश सरकार उन्हें पनाह दे, सारा खर्चा हम उठाएँगे.
तुर्की के विदेशमंत्री मेव्लुत कावुसूग्लू ने कहा है कि बहुत से मुस्लिम देश बड़े है,आखिर वे कहा है?और वो क्यों खामोश है?

तुर्की के विदेशमंत्री ने कहा कि तुर्की ने सत्तर मिलियन डालर की मानवीय सहायता रोहिंग्या मुस्लिमो के लिए भेजी है और कहा कि तुर्की के तरह दुनिया का कोई और दूसरा देश रोहिंग्या मुस्लिमो की मदद के लिए आगे नही आ रहा है.

उन्होंने कहा कि हम जानते है कि ये पर्याप्त नही है,हम जल्द ही यूएन सेक्रेटरी जनरल,मुस्लिम देशो और इंटरनेशनल आर्गेनाईजेशन के अलावा यूएन एडवाइजरी कमीशन राखिने स्टेट,कोफ़ी अन्नान और कई नेताओ से ये समस्या सुलझाने को कहेंगे.

बता दे म्यांमार सुरक्षा बालो ने रोहिंग्या मुस्लिमो के खिलाफ 25 अगस्त से अभियान चलाया हुआ है जिसमे कई लोगो की जाने जा चुकी है और लाखो लोगो को म्यांमार से पलायन करना पड़ रहा है.

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here