देश

बाबा साहब ने ऐसा संविधान तैयार किया जो सभी जाति और धर्मों की रक्षा करता है

डॉ. बी.आर आंबेडकर को भारतीय संविधान के रचयिता के रूप में जाना जाता है,उन्होंने अपनी दूरदर्शिता की वजह से देश के लिए एक ऐसा संविधान तैयार किया जो सभी जाति और धर्म के लोगों की रक्षा करे उनकी सोच
और उनके व्यक्तित्व के पीछे उनके अपने सिद्धांत थे. जिन्होंने न सिर्फ उन्हें सफल इंसान बनाया बल्कि हर ऊंचाई को छून में मदद भी की. आइए आज डॉ. बी.आर अंबेडकर की पुण्यतिथि के मौके पर उनके जीवन से जुड़ी

कुछ जानने की इच्छा
डॉ.बी.आर आंबेडकर बचपन से ही पढ़ने में अपने सहपाठियों की तुलना में काफी तेज थे।वह हर समय कुछ न कुछ नया जानने-सीखने को उतारू रहते थे,उनकी यही खासीयत आगे चलकर उनकी सफलता की कुंजी बनी
आज के दौर में भी हम उनकी इस खूबी को अपने ऊपर लागू कर सकते हैं,ऐसा करने से आप भी नई चीजों से अपडेट रहेंगे और इसका फायदा आपको निकट भविष्य में जरूर मिलेगा.

समाज के प्रति अपनी जिम्मदारी का पता होना
बाबा साहेब आंबेडकर को समाज के प्रति उनकी जिम्मेदारियों का हमेशा से पता होता था, वह चाहते थे कि वह समाज के लिए कुछ करें ताकि उनके आसपास रहने वाले लोग बेहतर जीवन जी सकें समाज के प्रति जिम्मेदारियों
का एहसास ही उन्हें खास बनाता था हम भी अपने स्तर पर अपने आसपास रहने वाले लोगों के लिए कुछ कर सकते हैं,भले ही इसकी शुरुआत हम किसी जरूरतमंद बच्चे को रोजाना पढ़ाने से ही क्यों न करें आपका रोजाना
किया जाने वाला यह प्रयास एक दिन उस बच्चे के जीवन में बड़ा बदलाव ला सकता है।

खुद पर विश्वास
बाबा साहेब अपने आप पर सबसे ज्यादा विश्वास करने वाले लोगों में से थे यही वजह थी कि उन्हें अपने ज्यादातर फैसलों पर निराशा हाथ नहीं लगी उन्होंने जो भी काम करने की सोची उसे विश्वास के साथ पूरा किया आप और हम भी खुदपर भरोसा करके कई बड़े काम को सही तरह से कर सकते हैं,खुद पर भरोसा आपको भी अपने काम को सही तरह से करने की ताकत देगा।

सबको साथ लेकर चलें
आपकी तरक्की में सभी का साथ होता है, यह बात बाबा साहेब से बेहतर तरीके से कोई नहीं समझा सकता बाबा साहेब का सभी धर्म,जाति और नस्ल के लोगों के प्रति एक तरह का ही व्यवहार था वह किसी के साथ भेदभाद
नहीं करते थे उनकी यही खूबी उन्हें सभी का चहेता भी बनाती थी हम और आप भी उनकी इस खूबी को अपने जीवन में शामिल कर सकते हैं।
एक सफल व्यक्ति के लिए दूरदर्शी होना जरूरी है,आपको पता होना चाहिए कि आप भविष्य में क्या और कैसे करने वाले हैं और उसका आपके जीवन पर क्या प्रभाव होने वाला है,भीम राव अंबेडकर भी दूरदर्शी थे,वह अपने
द्वारा किए गए फैसले और उसके असर के बारे में पहले से ही वाकिफ होते थे.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top
error: Content is protected !!