नई दिल्ली-भाजपा जहाँ कोर्ट द्वारा SC-ST एक्ट में संशोधन के बाद घिर गयी,दलितों इसके विरोध में दो अप्रैल को प्रदर्शन किया था.भाजपा जहाँ अपने को दलितों की हितैषी बताने में लगी है वही मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री के ब्यान के बाद पार्टी पर एक बार फिर दलित विरोधी होने के आरोप लगने लगे है.

शिवराज सरकार में मंत्री गोपाल भार्गव का ताजा बयान पार्टी के लिए मुसीबत बन सकती है,भार्गव ने रविवार को नरसिंहपुर में ब्राह्मण समाज द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि ‘यदि योग्यता को दरकिनार करके अयोग्य लोगों का चयन किया जाए, यदि 90 फीसदी वाले को बैठा दिया जाएगा और 40 फीसदी वाले की नियुक्ति की जाए तो यह देश के लिए घातक है.’

उन्होंने कहा इससे हमारा देश पिछड़ जाएगा. कहीं ब्राह्मणों के साथ अन्याय न हो जाए. यह प्रतिभा के साथ एक मजाक है और ईश्वर की व्यवस्था के साथ अन्याय हो रहा है.

आलोचना के बाद लिया यू-टर्न
हालांकि भाजपा नेता ने अपने बयान पर कहा कि उनके बयान को राजनीतिक कारणों से तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत किया जा रहा है.उन्होंने कहा कि वह आरक्षण के घोर समर्थक हैं और उन्होंने अपने बयान में आरक्षण शब्द का कहीं प्रयोग नहीं किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here