पणजी-गोवा में अगले कुछ दिन के लिए गोमांस की कमी बरकरार रह सकती है,बता दे पड़ोसी राज्य कर्नाटक के बूचड़खानों ने तब तक गौमांस गोश्त की आपूर्ति करने से इनकार कर दिया है,जबतक सरकार गो रक्षकों के खिलाफ कोई कदम नही उठाती है.

इससे गोवा में गोमांस का अभाव पैदा हो गया है मांस विक्रेताओं ने गो रक्षकों द्वारा उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए कर्नाटक से मांस का आयात बंद कर दिया है. इस वजह से तटीय राज्य में इसकी किल्लत हो रही है.गौरतलब है कि राज्य में भाजपा का शासन है लेकिन गोवा में गौमांस के सेवन आम है इसलिए भाजपा सरकार ने यहाँ गौमांस पर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नही लगाया है.

मांस विक्रेताओं के एक संगठन ने कहा कि उसके सदस्यों ने कर्नाटक के बेलगवी से मांस मंगाने पर रोक लगा दी है.ऑल गोवा कुरैशी मीट ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष मन्ना बेपारी ने बताया कि सीएम मनोहर पर्रिकर ने उन्हें आश्वस्त किया है कि वह इस संबंध में पुलिस से चर्चा करेंगे.

उन्होंने कहा कि सीएम फिलहाल शहर से बाहर हैं और दो दिन बाद उनके आने की उम्मीद है.उन्होंने बताया,‘‘कर्नाटक के आपूर्तिकर्ताओं ने साफ तौर पर कह दिया है कि जबतक तथाकथित गो-रक्षकों पर कार्रवाई नहीं होती है,तबतक वह आपूर्ति बहाल नहीं करेंगे.’’बेपारी ने बताया कि सीएम के वापस लौटने के बाद ही कार्रवाई की उम्मीद कर सकते हैं, लिहाजा तब तक आपूर्ति बहाल नहीं होगी.’’ उन्होंने कहा कि बेलगवी से रोजाना 25 टन गोमांस का आयात होता है.

गो रक्षा अभियान समेत गो रक्षा समूहों ने आरोप लगाया था कि कर्नाटक के अवैध बूचड़खानों से गोवा में बीफ लाया जाता है. इस आरोप को बेपारी ने खारिज किया है. उन्होंने बताया कि गोमांस उपलब्ध नहीं होने की वजह से राज्य में मटन और चिकन के दामों में बढ़ोतरी हो गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here