नई दिल्ली-बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और पूर्वोत्तर मामलों के प्रभारी राम माधव ने अपने बारे में ‘फ़र्ज़ी ख़बर’ प्रकाशित करने वाली एक वेबसाइट के ख़िलाफ़ मामला दर्ज करवाया है.भारतीय जनता पार्टी की नागालैंड इकाई की ओर से दीमापुर के पूर्वी पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई है.

एक वेबसाइट ‘द न्यूज़ ज्वाइंट’ ने एक लेख में 10 फ़रवरी को दीमापुर आए राम माधव के बारे में आपत्तिजनक दावे किए थे.हालांकि राम माधव की ओर से क़ानूनी कार्रवाई किए जाने के बाद ये वेबसाइट ही बंद हो गई है.यही नहीं वेबसाइट का फ़ेसबुक पेज भी ग़ायब हो गया है.बीजेपी ने इस बारे में दीमापुर के अलावा कोहिमा और दिल्ली में भी मामले दर्ज करवाने की बात कही है.वहीं असम के मंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने एक ट्वीट कर कहा है, “हमने ये झूठ बोलने वालों को अपने दावे साबित करने की चुनौती दी है. इसी बीच हम साइबर अपराध विभाग भी जा रहे हैं. जिन लोगों ने ये अफ़वाह फैलाई है हम उन सब पर मुक़दमे करेंगे.”

अपनी शिकायत में बीजेपी ने कहा है, “कथित समाचार पूर्ण रूप से फ़र्ज़ी है और ये हमारे राष्ट्रीय महासचिव श्री राम माधव का चरित्र हनन करके 27 फ़रवरी को होने वाले चुनावों के लिए हमारे कामयाब चुनावी प्रयासों को चोट पहुंचाने के लिए लिखी गई है.”बीजेपी ने अपनी शिकायत में कहा है, “राम माधव दस फ़रवरी को सिर्फ़ तीन घंटों के लिए दीमापुर आए थे और यहां पार्टी नेताओं की बैठक करके लौट गए थे.जैसा दावा किया जा रहा है ऐसी कोई घटना नहीं हुई है.”सिलचर से कांग्रेस की सांसद सुष्मिता देव ने भी इस ख़बर का लिंक शेयर करते हुए लिखा,”राम माधव नागालैंड में रंगे हाथों पकड़े गए. हेमंत बिस्वा क्या ये बात सही है?”साभार-बीबीसी हिंदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here