नई दिल्ली-भाजपा के नेता येदुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेली है लेकिन उनके लिए बहुमत साबित करना टेड़ी खीर बनता दिख रहा है.कल तक भाजपा के समर्थन में खड़े दो निर्दलीय विधायको ने भाजपा को झटका दे कर जनता दल सेक्युलर और कांग्रेस के खेमे में दुबारा वापस आ गये है.

राज्यपाल द्वारा सरकार बनाने का मौका ना दिए जाने के बाद कांग्रेस ने कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में धरना प्रदर्शन आयोजित किया है जिसमे जेडीएस और कांग्रेस के विधायक एवं सांसद धरना दे रहे है लेकिन इस धरने में भाजपा को समर्थन कर रहे दो निर्दलीयो के आने के बाद भाजपा खेमे में हडकंप मच गया है.अब ऐसे में सवाल उठता है कि येदुरप्पा कैसे बहुमत सिद्द करेंगे,हलाकि राज्यपाल ने उन्हें बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया है लेकिन चुकी मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है इसलिए जानकारों के अनुसार सुप्रीम कोर्ट बहुमत को दिया जाने वाला समय कम कर सकती है.

धरना प्रदर्शन में काग्रेस और जेडीएस के समर्थन में 118 विधायक पहुचे है.इस बीच बसपा मुखिया मायावती ने कर्नाटक में राज्यपाल के फैसले को लोकतंत्र की हत्या बताया है.,उन्होंने कहाकि भाजपा बाबा साहब भीम राव आंबेडकर द्वारा बनाये गये संविधान को खत्म करना चाहती है.

सपा मुखिया अखिलेश यादव ने भी कर्नाटक के राज्यपाल के फैलसे को गलत बताकर आलोचना की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here