नई दिल्ली-पश्चिम बंगाल में भाजपा की बाइक रैली के दौरान तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं से झडप हो गयी.इस रैली की निगरानी कर रहे हाईकोर्ट के पर्यवेक्षक को भी कार्यकर्ताओ ने निशाना बनाया.पार्टी समर्थको ने पथराव कर कार का शीशा तोड़ दिया.मारपीट की घटना के बाद भाजपा ने बाइक रैली स्थगित कर दी.

रैली में हुई हिंसा के लिए भाजपा ने तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को ज़िम्मेदार बताया है,भाजपा का कहना है कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओ के हमले से भाजपा के कई कार्यकर्ता घायल हो गये.बता दे इस रैली की पश्चिम बंगाल सरकार ने इजाजत नहीं दी थी.राज्य सरकार से इजाजत नही मिलने के बाद जपा ने कलकक्ता हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.

हाई कोर्ट ने कहा था कि रैली को इजाजत न देने के पीछे कोई वजह नहीं है.जबकि राज्य सरकार ने कहा था कि रैली के चलते गंगा सागर मेले के आयोजन में बाधा पहुंचेगी.सरकार ने सुरक्षा मुद्दे के चलते रैली को अनुमति न देने की बात कही थी.मगर हाईकोर्ट ने इसे खारिज करते हुए बीजेपी को रैली निकालने की मंजूरी दी थी.दक्षिण बंगाल के कोनटाई से शुरू होकर 18 जनवरी को उत्तर बंगाल के कूच बिहार में रैली का समापन होना है.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार,कलकक्ता हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को रैली के मद्देनजर पर्याप्त सुरक्षा बंदोबस्त करने के निर्देश दिए थे.इस रैली की निगरानी के लिए हाईकोर्ट ने एक पर्यवेक्षक भी नियुक्त किया था लेकिन रैली शुरू होते ही हिंसा शुरू हो गयी जिसमे पर्यवेक्षक की गाडी पर भी तोड़फोड़ की गयी. तृणमूल कांग्रेस ने रैली में हुई हिंसा के लिए भाजपा को ज़िम्मेदार ठहराया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here