भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जनकपुर दौरे के दौरान नेपाल के प्रदेश नंबर-दो के मुख्यमंत्री लालबाबू राउत ने न केवल उनकी मेजबानी की बल्कि मंदिर परिसर में प्रवेश कर ‘राजधर्म’ भी निभाया.धर्म से मुस्लिम होने के बावजूद राउत ने मोदी का मंच पर नागरिक अभिनंदन करते हुए बार बार भगवान राम,माता सीता और हिंदू धर्म के बारे में मन्त्र मुग्ध करने वाला भाषण दिया.

बता दें कि मुख्यमंत्री का पूरा नाम मोहम्मद लालबाबू राउत है,उनके परिवार में सदस्यों के नाम भी हिंदू सरीखे हैं.उनके पिता दशरथ राउत, माता राधिका देवी और भाई रामबाबू राउत हैं,जनकपुर के स्थानीय पत्रकार बताते हैं कि लालबाबू राउत ने पहली बार जब सीएम कार्यालय और मुख्यमंत्री निवास में प्रवेश किया था तो हिंदू पंडितों से पूजा-पाठ कराई थी.वह नमाज भी पढ़ते हैं और इस्लाम का पालन भी कड़ाई से करते है.

उल्लेखनीय है कि प्रदेश नंबर-2 में संघीय समाजवादी फोरम नेपाल और राष्ट्रीय जनता पार्टी कि संयुक्त सरकार है। राउत फोरम की ओर से मुख्यमंत्री बने हैं। सीमावर्ती पर्सा जिले के मुस्लिम बहुल जगरनाथपुर गांव के निवासी राउत किसान परिवार से ताल्लुक रखते हैं।

उन्होंने अंग्रेजी से स्नातकोत्तर किया है और एलएलबी की डिग्री भी ली है। वीरगंज स्थित ‘ठाकुर राम बहुमुखी’ कॉलेज में प्राध्यापक रहे राउत ने पांच साल पहले नेपाल की संविधान सभा के निर्वाचन से पहले नौकरी छोड़ी थी और राजनीति में सक्रिय हुए थे.राउत ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि नेपाल हिंदू बहुल राष्ट्र है,यहां की बहुसंख्यक जनता हिंदू है.हम यहां की बहुसंख्यक हिंदू जनता की भावना का आदर करते हैं और सभी धर्मो का उसी तरह आदर किया जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here