अहमदाबाद…यहाँ छारनगर में एक ऐसी घटना सामने आयी है जिसके बाद गुजरात पुलिस पर एक बार फिर सवाल उठ रहा है. छारानगर में पुलिस की कथित रूप से गुंडागर्दी करने का मामला सामने आया है. मामला रात 12:30 के क़रीब का है जब दो लड़के अपनी बाइक पर बैठ कर कुछ पैसे गिन रहे थे. इतने में एक पुलिसकर्मी वहाँ आकर उनसे सवाल जवाब करता है, जिसके बाद कहासुनी होती है.


इसके बाद पुलिस वाला उन्हें थाने चलने को कहता है लड़के मना कर देते हैं तो उन्हें पुलिसकर्मी मारने लगता है लेकिन बदले में लड़के भी पुलिस कर्मी को मारने लगते हैं. इस हाथापायी में लड़के भाग जाते हैं. परन्तु इसके बाद 500 से अधिक पुलिस कर्मी छारानगर में पहुँच जाते हैं और वहां एक-एक घर की तलाशी लेना शुरू करते हैं. रात के एक बजे से लेकर सुबह के पाँच बजे तक पुलिस इलाके में कर्फ्यू की स्थिति कर देती है.


इलाके के लोगों का कहना है कि सड़क पर कोई भी नज़र आ जाए चाहे वो महिला ही क्यूँ न हो पुलिस उसे बुरी तरह से मार रही थी. आरोप है कि पुलिस ने लोगों के घरों में भी रेड डाली. इस मामले में एक एक्टिविस्ट आतीश छारा को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है जबकि छारा के बारे में उनके नज़दीकी लोगों का कहना है कि वो हिंसा में कहीं से भी शामिल नहीं थे. इस मामले के बाद एक बार फिर गुजरात पुलिस पर आरोप लगने लगे हैं कि ये गुंडे के बल पर क़ानून चलाती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here