नई दिल्ली-सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों द्वारा देश के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ मोर्चा खोलने के बाद कांग्रेस और कई विपक्षी दलों के नेताओ के ब्यान आ रहे है इस बीच मीडिया का सूत्रों के आधार पर कहना है कि संसद के आगामी बजट सत्र में कांग्रेस पार्टी चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग ला सकती है.

सूत्रों के अनुसार,इस मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी,पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और वरिष्ठ वकीलों से संपर्क कर अंतिम फैसला लेंगे.चार वरिष्ठ जजों द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर आरोप लगाने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देर शाम प्रेस कॉन्फ्रेन्स किया और इसे काफी गंभीर मसला बताया.कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि चार जजों द्वारा उठाए गए मुद्दे काफी संवेदनशील हैं लोकतंत्र के लिए खतरनाक हैं.

उन्होंने जजों द्वारा जज लोया के मामले को उठाने पर कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए.इस मसले पर इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस जेड यू खान ने एक न्यूज़ चैंनल से बातचीत करते हुए चारों जजों के उस तर्क को सही ठहराया है कि सीजेआई अन्य जजों के बॉस नहीं हैं बल्कि बराबर हैं लेकिन वो इन सबमें सबसे आगे हैं.उन्होंने कहा कि सभी जज संविधान से बंधे हुए हैं.उन्होंने कहा कि जजेज इन्क्वायरी एक्ट 1968 के तहत ही महाभियोग लाया जा सकता है.जस्टिस खान ने कहा कि अनाचार और अयोग्यता ये दो आधार हैं जिनके बल पर ही किसी न्यायाधीश के खिलाफ महाभियोग लाया जा सकता है.इसे साबित भी करना होता है.हालांकि अभी तक देश में किसी भी जज पर महाभियोग की पूरी प्रक्रिया नहीं हो सकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here