अगर ये कहा जाए कि तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगन मौजूदा दौर में मुस्लिम समाज के सबसे बड़े नेता हैं, तो शायद ग़लत ना होगा। तुर्की उनके शासन काल में नई ऊंचाइयां छू रहा है. वो एक मात्र ऐसे नेता हैं जो शायद किसी से नहीं दबते, वो सम्मान तो सभी का करते हैं लेकिन वो किसी के आगे झुकते नज़र नहीं आते. तुर्की के राष्ट्रपति ने एक बार फिर चर्चा बटोरी है. इसकी वजह उनका एक बड़ा एलान है. क्या है उनका एलान, जानते हैं आगे-


तुर्की ने घोषणा करते हुए कहा कि वह सीरिया में युद्ध से हुए नुक़सान विशेषकर मस्जिदों का पुनर्निमाण कराएगा। उनके इस एलान के बाद से ही उनकी स्थिति इस्लामिक जगत में तो मज़बूत हुई ही है, साथ ही वो पश्चिमी देशों का ध्यान खींचने में भी कामयाब रहे हैं। तुर्की के इस फैसले की तारीफ़ लगातार हो रही है। युद्धग्रस्त इलाक़ों की मस्जिदों का निर्माण कराया जाएगा। इसकी जिम्मेदारी तुर्की ने ली है। आतंकवादी समूहों के क्रूर शासन से निकलने और पीकेके के सीरियाई सहयोगी, पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स (वाईपीजी) सीरिया के उत्तर में स्थित कस्बों के पुनर्निर्माण और सामाजिक पुनरुत्थान का काम देख रहे हैं. यह सब सीरिया को फिर से विकास की राह पर लाने के प्रयासों में जुटे हुए है.


तुर्की मीडिया के अनुसार तुर्की के राज्य संचालित प्रेसीडेंसी ऑफ रिलिजनियस अफेयर्स (डीआईबी) ने मस्जिदों के पुननिर्माण और सीरिया में धार्मिक शिक्षा को पुनर्जीवित करने के लिए तुर्की सशस्त्र बलों (टीएसके) की सहायता से मुक्त शहरों में रह रहे सीरिया के लोगों की मदद करने की योजना बनायी है. इस पर अमल करना भी शुरू कर दिया गया है. तुर्की के सहयोग के बाद पुनर्निर्माण के कारों को गति मिलगी. डीआईबी नामक एक संगठन इस दिशा में व्यापक प्रायस कर रहा है.


डीआईबी ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को बढ़ाने के लिए 30 वीडियो भी तैयार किये है. ये सभी वीडियो अरबी भाषा में हैं. दीनबेट फाउंडेशन डीआईबी से जुड़े एक गैर-लाभकारी संस्था है. इस संस्था ने मस्जिदों और धार्मिक विद्यालयों का पुनर्निर्माण कराने की योजना में मदद की है. इसके लिए संस्था ने टीएल 10 मिलियन 1.61 मिलियन डॉलर से अधिक खर्च किया है. आपको बता दें की तुर्की ने 2016 में अपने देश की सीमाओं से आतंकवादियों को दूर करने के लिए फ्री सीरियाई सेना (एफएसए) के साथ मिलकर ऑपरेशन यूफ्रेट्स लॉन्च किया था.


इस ऑपरेशन की मदद से क़रीब 3000 आतंकियों को देश की सीमा से खदेड़ दिया गया है. उत्तरी सीरिया में 2,000 किलोमीटर-वर्ग क्षेत्र को जारब्बलस, दबीक और अल-बाब समेत आतंकियों से मुक्त करा दिया गया.आपको बता दें कि एर्दोगन ने हमेशा ही मुश्किल परिस्थितियों में फंसे लोगों की मदद की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here