नई दिल्ली-कर्नाटक विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नही मिला है.भाजपा के बहुमत से चूकने लेकिन सबसे बड़ी पार्टी होकर उभरने के बाद भारतीय मीडिया ने भाजपा के पक्ष में माहौल बनाने के लिए अपने पैतरे चलने शुरू कर दिए है.जो मीडिया गोवा,मिजोरम,मेघालय और बिहार में सबसे बड़े दल को ना बुलाने के राज्यपाल के फैसले को सही बता रहा था उसके सुर अचानक बदल गये और अधिकतर पत्रकार टीवी चैंनल पर कांग्रेस-जेडीएस के मेल को लोकतंत्र से धोखा बता रहे है,जी न्यूज़ से लेकर news18 तक इसी पैटर्न पर चला.


कुछ ऐसे ही शीर्षक अन्य न्यूज़ चैनल पर है.

भाजपा की मदद के लिए मीडिया ने भी खेला अफवाह कार्ड
भाजपा के सीएम उम्मीदवार येदुरप्पा ने राज्यपाल से मिलकर दावा पेश कर दिया है,बाहर आकर उन्होंने मीडिया से कहाकि उनको राज्यपाल बुलाएंगे.इसके बाद अधिकतर मीडिया जानकारों का मानना है कि अब सरकार बनाने के लिए भाजपा को मौका मिलने वाला है इसके बाद से मीडिया चैंनलो ने सरकार बनाने के लिए सिंगल लार्जेस्ट पार्टी को बुलाने का कानून बताना शुरू कर दिया.

इस बीच एक खबर मीडिया चैंनलो में चलाई जा रही है कि कांग्रेस के सात विधायक जेडीएस से गठबंधन से नाराज़ है वो ये बगावत कर सकते है कबले गौर है किसी विधायक ने ना तो मीडिया में आकर ऐसी कोई बात की है और ना ही कोई ऐसा संकेत दिया है लेकिन भाजपा का सबसे बड़ा अस्त्र मीडिया चैंनल है इन्ही के बल पर अफवाह फैलाके विरोधी खेमे में हलचल पैदा की जा सकती है.बता दे यूपी के एमएलसी चुनाव में भी कई मीडिया चैनल का दावा था कि सपा और बसपा के आधा दर्जन विधायक भाजपा के समपर्क में है लेकिन सपा में तो कोई टूट नही बसपा का सिर्फ एक विधायक टूटा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here