कश्मीर में LOC पर शहीद हुए सूबेदार अब्दुल सत्तार को पुरे राजकीय सम्मान के साथ सुपर्दे ख़ाक कर दिया गया.उनका अंतिम संस्कार राजस्थान के नागौर के डीडवाना तहसील के मावा में किया गया.उनको अंतिम विदाई देने में सेना के अधिकारी,नेता और हजारो की संख्या माँ जनता मौजूद रही.मंगलवार को सुबह उनका शरीर विशेष विमान से उनके गाँव मावा लाया गया.

शहीद की मौत पर पुरे गाँव में मातम रहा.घरवाले रोते और बिलगते रहे.उनको जनाज़े में आसपास के कई गाँव के लोग आये और शहीद अब्दुल सत्तार की जयकार लगा रहे थे.सेना के जवानों ने शहीद को गार्ड ऑफ़ आनर और सलामी दी.राजस्थान सरकार में केबिनेट मंत्री युनूस खान और विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने शहीद जवान अब्दुल सत्तार को श्रद्धांजलि अर्पित की,शहीद अब्दुल सत्तार की अंतिम यात्रा में हजारों लोग शामिल हुए.

LOC पर पेट्रोलिंग के दौरान धमाके में हुए थे घायल
पाक बॉर्डर पर पेट्रोलिंग के दौरान 12 मई को लगी आग में हथियार और बारूद बचाते झुलसे मावा निवासी सूबेदार अब्दुल सत्तार घायल हो गये थे.वे सेना की 13 ग्रेनेडियर रेजीमेंट में जम्मू काश्मीर के गुरेज सेक्टर में लाइन ऑफ कंट्रोल पर तैनात थे.उनका निधन जयपुर में इलाज के दौरान हुआ. सीमा पर 12 मई को ड्यूटी के दौरान सूबेदार अब्दुल सत्तार गम्भीर रूप से आगजनी के घटना में झुलस जाए थे.सूबेदार आग लगने के समय गंगा जैसलमेर अग्रिम चौकी पर तैनात थे.यह चौकी 13,250 फीट की ऊंचाई पर है.यहीं वे तैनात थे और इस दौरान शहीद हो गए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here