ज्योतिष को लेकर अलग अलग समुदाय की अलग अलग सोच है कुछ लोग तो ज्योतिष पर विश्वास करते है वही कुछ लोग ज्योतिष पर बिलकुल भी विश्वास नही करते है,ज्योतिष पर विश्वास करना ना करना अलग बात है लेकिन जो लोग ज्योतिष पर विश्वास नही करते है उन्हें ये बात पता होना चाहिए.बहुत से लोग बहुत अधिक परिश्रम करके भी जीवन में कामयाब नही होते है वही काफी लोग ऐसे है जो बिना परिश्रम के ही जीवन में धनवान होते जा रहे है.

कुछ लोग हर कोशिश करके भी नाकाम रह रहे है वही कही का जीवन राजाओ वाला होता है,इसलिए भाग्य को कोई नकार नही सकता है और भाग्य को समझने के लिए जानने के लिए एक मात्र विद्या ज्योतिष है.जैसा कि आप सभी जानते है कि ग्रहों की चाल और उनके परिवर्तन से हमारे जीवन के दुख सुख जुड़े होते है।

ग्रहों के परिवर्तन से हमारी राशियों में जो बदलाव आता है उससे या तो हमारा जीवन प्रगति की ओर जाता है या फिर हमारे द्वारा किया गया हर कार्य दुखदायी होता है।ज्योतिष शास्त्र के विद्वानों के माने तो ग्रहों की चाल के परिवर्तन के कारण चंद्रमा और गुरू का मिलन होने वाला है इस मिलन के द्वारा गजकेसरी योग बन रहा है जिससे भगवान गणेश की विशेष कृपा होने वाली है।

ये कृपा केवल कुछ भाग्यशाली राशि वालो पर होगी।उन भाग्यशाली राशि वालो का नाम कर्क, तुला,मीन, कुंभ और वृश्चिक है।अगर आप इन राशि मे किसी भी एक से है तो खुश हो जाइए क्योंकि आपका भाग्य बहुत जल्द खुलने वाला है।इस योग से इन राशि वालो के सभी कष्ट दूर होंगे।

अगर आप कोई नए कार्य को शुरू करने की सोच रहे है तो यह समय आपके लिए बहुत उपयुक्त है।जो लोग नौकरी पेशा है उनको तरक्की मिलने की आशंका है।परिवार में आपसी द्वेष दूर होंगे और प्रेम स्नेह बढ़ने वाले है।धन की बारिश होने वाली है।शारीरिक समस्याओं से जूझ रहे लोगो की बीमारियां दूर होंगी।शत्रुओ पर विजय प्राप्त होगी आर्थिक स्तिथि सुधरेगी।

आस पड़ोस की समस्यायों से मुक्ति मिलेगी ।समाज मे मान सम्मान बढेगा ।व्यापार में लाभ प्राप्त होगा।आक्समिक लाभ प्राप्त हो सकता है रुके हुए काम आसानी से पूर्ण होंगे।परिवार में खुशियां आएगी।

जीवनसाथी से प्रेम संबंध बढ़ेगा।बकायदारों से पैसा प्राप्त होगा।जिन राशियों पर ये उपकार होने वाले है उनको चाहिए कि वो भगवान की सच्ची श्रद्धा के साथ पूजा अर्चना करे।गरीबो और जरूरत मंदो की मदद करे जिससे उनके ऊपर विशेष कृपा बनी रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here