नई दिल्ली- सऊदी अरब की शूरा परिषद ने नागरिकता कानून में संशोधन करने के प्रस्तावों पर विचार करने का निर्णय लिया है. सऊदी गजट की रिपोर्ट के मुताबिक,शुरा परिषद ने ऐसे सुझावों पर विचार करने का निर्णय लिया है जिनके समर्थन से उन बच्चों को नागरिकता दी जानी चाहिए यदि उनकी मां सऊदी नागरिक है.इस प्रस्ताव पर विचार करने का निर्णय बहुमत के साथ पास हुआ,शुरा में वोटिंग के समय 63 सदस्यों ने इस प्रस्ताव के समर्थन में मतदान किया.

गौरतलब है कि ये प्रस्ताव दो वर्ष पहले भी रखा गया था लेकिन कभी चर्चा नहीं हुई.यह प्रस्ताव लतीफा अल-शालन, अता अल-सिबैती, हया अल-मनी, थुरैया ओबामा और वफा तैयबा द्वारा पेश किया गया.इस पर परिषद में बहस शुरू की गई कई ने इसका समर्थन किया हालांकि, कुछ ने प्रस्ताव का विरोध किया। प्रस्ताव का विरोध करने वाले एक सदस्य फहद अल-अंज़ी ने कहा कि बच्चा अपने पिता से जुड़ा होता है.

हालांकि एक अन्य सदस्य फैसल अल-फ़ेडिल ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया और कहा कि ऐसे बच्चों को नागरिकता देना शरिया के अनुसार है.एक महिला सदस्य इकबाल दारंद्री ने प्रस्ताव का समर्थन किया.एक अन्य महिला सदस्य नूर अल-मसाद ने भी अपनी राय रखी.यह भी तर्क था कि ऐसे बच्चों को नागरिकता से वंचित करने से राज्य में योग्य कैडर की कमी हो जाएगी.बता दे सऊदी अरब में पिछले कुछ वर्षो में कई बदलाव किये गये है,शुरा ने कई महत्वपूर्ण फैसले पिछले एक साल के दौरान लिए है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here