नई दिल्ली-हरियाणा के पूर्व ऊर्जा मंत्री और कांग्रेस नेता अजय यादव ने सीएम मनोहर लाल खट्टर के उस बयान की आलोचना की है, जिसमें उन्होंने कहा था कि मुस्लिमों को सिर्फ मस्जिदों में नमाज पढ़नी चाहिए,सार्वजनिक जगहों पर नहीं.अजय यादव ने कहा,’इस तरह के बयान देने के बजाए सीएम खट्टर को नमाज पढ़ने वालों के लिए बड़ी जगह उपलब्ध कराना चाहिए.वे सड़क पर नमाज इसलिए पढ़ते हैं कि उनके पास पर्याप्त बड़ी जगह नहीं है और सिर्फ अकेले उन्हें ही क्यों दोष दिया जाए? क्या हम पार्क में योग नहीं करते या सड़को पर जागरण नही करते है.

कांग्रेस नेता ने कहाकि गुरुग्राम में मुस्लिम पिछले दस सालो से खुले में नमाज़ अदा कर रहे है,ऐसा इस लिए भी है क्युकि यहाँ पर्याप्त मस्जिदे नही है.उन्होंने आरएसएस और भाजपा पर धार्मिक आधार पर राजनैतिक खेल खेलने के आरोप लगाया.उन्होंने इस विवाद को गैर ज़रुर्री बताते हुए कहाकि आगामी लोकसभा के मद्देनजर धार्मिक आधार पर बटवारे की नीयत से भाजपा सरकार ने इस मुद्दे को हवा दी है.

खट्टर ने खुले में नमाज़ को बताया गलत..
खुले में नमाज़ के विरोध के बाद पिछले शुक्रवार को गुरुग्राम पुलिस ने करीब दस स्थानों पर नमाज़ को अदा करने से रोक दिया,इसके बाद राज्य के सीएम खट्टर ने खुले में नमाज़ अदा ना करने की सलाह देते हुए कहाकि नमाज़ ईदगाह और मस्जिदों में अदा की जानी चाहिए.

वक्फ बोर्ड ने हरियाणा सरकार को लिखा खत..
सीएम खट्टर के ब्यान के बाद हरियाणा वक्फ बोर्ड ने राज्य सरकार को खत लिखकर उन्नीस मस्जिदों से अवैध कब्ज़े को हटवाने की गुहार लगाई है,इनमे से कई मस्जिदों पर सरकारी कार्यालय होने की बात कही जा रही है.वक्फ बोर्ड के खत पर राज्य सरकार ने कोई प्रतिक्रिया नही दी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here