एक समय भारत के मशहूर खिलाड़ी रहे मुहम्मद कैफ ने सभी फॉर्मेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है. मुहम्मद कैफ ने भारत को कई एकदिवसीय मैच जिताए हैं और साथ ही उन्होंने कई शानदार टेस्ट परियां भी खेली हैं. वो एक समय भारतीय क्रिकेट टीम का परमानेंट हिस्सा थे लेकिन बाद में खराब फॉर्म के चलते उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया गया. बाद में भी वो फर्स्ट क्लास में अच्छा खेलते रहे लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम में उनके लिए जगह नहीं बन सकी.


कैफ जिस समय टीम में आये थे, भारतीय टीम की फील्डिंग बहुत खराब मानी जाती थी. उन्होंने भारतीय टीम की फील्डिंग में नयी जान डाल दी. उन्हें विश्व के सबसे अच्छे फील्डर्स में शुमार किया जाता था. आज उन्होंने संन्यास की घोषणा कर दी. उन्होंने एक पत्र लिख कर इस बात की जानकारी दी. उन्होंने लिखा कि मैं आज रिटायर हो रहा हूं, उस एतिहासिक नेटवेस्ट सीरीज को 16 साल बीत चुके हैं, जिसका मैं भी हिस्सा था। उन्होंने कहा कि भारत के लिए खेलना उनके लिए गौरव की बात रही. उन्हें इस बात की बहुत ख़ुशी है कि वो भारत के लिए खेले. आपको बता दें कि भारतीय टीम की सबसे फ़ेमस जीत में से एक रही नेटवेस्ट ट्राफी फाइनल की जीत के हीरो कैफ ही थे. ये वही मैच है जिसमें जीत के बाद सौरव गांगुली अपनी टी-शर्ट उतार कर हवा में लहराते हैं.


37 साल के मुहम्मद कैफ ने कुल 13 टेस्ट मैच खेले और 125 एकदिवसीय मैच खेले. वो उत्तर प्रदेश की रणजी टीम के कप्तान भी रहे. उन्होंने आज का दिन रिटायर होने के लिए इसीलिए चुना क्यूंकि नेटवेस्ट ट्राफी का फाइनल भी आज ही खेला गया था. सन 2002 में ये मैच खेला गया था जो बहुत ही रोमांचक था. इस मैच में कैफ ने 87 रन की नाबाद पारी खेली थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here