इस माह में माता की कृपा सभी पर बनी रहेगी क्योंकि इस महीने में आ रहे हैं नवरात्रा.माना जाता है की नवरात्रा में माँ से जो मां से जो माँगा जाता है वो अवश्य मिलता है.हिन्दू धर्म में नवरात्रा को एक प्रमुख त्योहार की तरह मनाया जाता है.इस व्रत में माँ दुर्गा के नो स्वरूपों की पूजा की जाती है इस माह में 10 अक्टूबर से नवरात्रा शुरू हो जायेंगे.

यदि आप भी नवरात्रा में माँ के कलश की स्थापना करने वाले हैं तो यह जरुर पढ़ें क्योंकि आपकी एक छोटी सी गलती आपके परिवार को मुसीबत में ला सकती है.वैसे तो माँ बहुत दयालु है पर जिस घर में माँ के कलश की पूजा होती है उस घर में कभी भी ऐसी घटनाए नहीं घटित करनी चाहिए. या कलश स्थापना में ऐसी गलती नहीं होनी चाहिए.

जब तक माँ का कलश आपके घर है आपको भूलकर भी ऐसे कृत्य नहीं करने चाहिए जिससे माँ आप पर गुस्सा हो, अक्सर माँ की पूजा तो हम करते हैं पर घर परिवार में ऐसे कृत्य करते है जो माँ को कभी पसंद नहीं होते है. अगर आपने घर में माँ का कलश रखा है या रखने की सोच रहे हैं तो एक बार इस आर्टिकल को जरुर पढ़ें.

शिवपुराण के अनुसार माँ दुर्गा शिव की अर्धांगिनी हैं, ऐसे में यदि नवरात्रा के समय कोई शिव जी की बुराई करता है तो माँ उसे अपने प्रकोप के घेरे में ले लेती हैं. क्योंकि कहा जाता है की कोई भी पत्नी अपने पति के बारें में गलत नहीं सुन सकती है.स्त्री का सम्मान करे – अक्सर ऐसा होता है की हम सब कुछ जानते हुए भी अनजान बने रहे हैं.

मैंने अक्सर देखा है की लोग स्त्रियों का अपमान करते हैं अगर कोई नवरात्रा के समय स्त्रियों का अपमान करता है तो माँ उससे नार्जा हो जाती है और उसे उसकी इच्छा के अनुसार फल नहीं देती हैं.किसी से भी छल कपट करने वाले लोगों के लिए यह 9 दिन बहुत भारी होते हैं क्योंकि इन्ही नौ दिनों में यदि कोई किसी से छल कपट करता है तो माँ उसे उसी समय दंड देती है.

माना जाता है की माँ दंड जैसे भी देती है जरुर देती है अगर कोई किसी के साथ अत्यचार या किसी गलत तरीके से किसी को कोई संकट पहुंचता है तो उसे माँ के प्रकोप से कोई नहीं बचा सकता.यदि आपको सट्टा लगाने की आदत है तो इन नौ दिनों में यह आदत भी आपको बदलनी होगी क्योंकि अगर आपने ऐसा नहीं किया तो माँ आपकी जिन्दगी को बदल कर रख देगी.

माँ को मेहनत से कमाकर खाने वाले लोग पसंद होते हैं यूँ लौटरी और सट्टा लगाने वाले नहीं. ऐसे में अगर आपके घर कलश की स्थापना है तो ऐसा कृत्य कभी ना करें.भूलकर भी किसी भी तरह का गलत भोजन ना करें जैसे, मांस इत्यादि का कहते है की माँ को मांसहारी लोग बिलकुल पसंद नहीं होते है.

अगर इन नौ दिनों में जिनके घर कलश स्थापित है उनके घर में कोई मांस इत्यादि का सेवन करता है तो माँ उसे दंड जरुर देती है.आपको बता दूँ की नवरात्रा में कलश स्थापित करने का शुभ मुहूर्त सुबह 7:45 मिनट तक हैं. वैसे यदि कोई चाहे तो 11:36 मिनट से दोपहर 12:24 मिनट तक कलश की स्थापना और पूजा कर सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here