दिल्ली-राजधानी के आजादपुर में स्लम बड़ा बाग है. इसके ठीक बगल अव रेलवे ट्रैक है जिसपर कई ट्रेनें गुजरती हैं.इसी ट्रैक के बगल में नौजवान निसार अहमद का जीवन भी गुजर रहा है.वह प्लास्टिक शीट्स, टिन शेड और कुछ ईंटों से बने ढांचे में अपना जीवन गुजार रहे हैं. निसार कोई आम लड़का नहीं है.वह एक धावक है.

16 वर्ष के निसार की कहानी तब सुर्खियां बनी जब बीते साल दिल्ली में दिल्ली स्टेट्स एथलेटिक्स मीट प्रतियोगिता में उसने 100 मीटर की दौड़ में रिकॉर्डतोड़ प्रदर्शन किया.निसार ने अंडर-16 के राष्ट्रीय रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 100 मीटर की रेस में 11 सेकंड से भी कम समय लेते हुए 0.02 सेकंड की बचत की.इसके अलावा इसी क्रम में उसने 200 मीटर के राष्ट्रीय रिकॉर्ड को भी तोड़ते हुए 22.08 का समय निकाला.इससे पहले ये रिकॉर्ड 22.11 का था.

निसार के पिता रिक्शा चलाकर किसी तरह घर-परिवार की जरूरतें पूरी करते हैं.लेकिन निसार ने दौड़ लगाकर अब अपने हालात को बदलने का सिलसिला शुरू किया है.उनके लिए अच्छी खबर ये है कि दुनिया के सुपरस्टार रेसर उसैन बोल्ट के घर यानी किंग्स्टन जमैका के रेसर्स ट्रैक क्लब में निसार को दौड़ने का मौका मिलेगा.

गैस अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया और स्पोर्ट्स मैनेजमेंट कंपनी एंग्लियन मैडल हंट ने देश के 14 सर्वश्रेष्ठ युवा धावकों के साथ निसार का भी चयन किया है.ये 14 धावक वेस्टइंडीज में उसैन बोल्ट के कोच ग्लेन मिल्स की देखरेख में खुद को तराशने का काम करेंगे.किंग्स्टन के इस क्लब के साथ चार हफ्ते का ये ट्रेनिंग प्रोग्राम इन युवा भारतीय धावकों का जीवन बदलने में अहम योगदान निभा सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here