लखनऊ-दुनियाभर में मशहूर इस्लामिक संसथान देवबंद में भड़काऊ पोस्टर्स असामाजिक तत्वों ने लगाये है.पोस्टर्स में दारुल उलूम में शिक्षा ग्रहण कर रहे बांग्लादेशी छात्रों को एक महीने में भारत छोड़ने की धमकी दी गई है.ये पोस्टर्स देवबंद की दीवारों और मस्जिदों पर चिपकाये गये है.पोस्टर में लिखा है कि अगर बांग्लादेशी छात्र एक महीने में भारत नहीं छोड़ते हैं तो उन्हें गंभीर परिणाम भगुतने पडेंगे.

पोस्टर को लगाने के बाद दारुल उलूम ने पुलिस में शिकायत की है.जिसके बाद पोस्टर्स चिपकाने वालों की पुलिस तलाश कर रही है.इन लोगों देवबंद और दूसरे मदरसों में पढ़ने वाले बांग्लादेशी छात्रों का नाम और उनकी संख्या भी पोस्टर्स में लिख रखी है.रिपोर्ट के अनुसार,सहानरपुर के एसएसपी बबलू कुमार ने कहा कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है, और ऐसा करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.हालांकि स्थानीय लोगों ने तुरंत इस पोस्टर को उतार दिया और उसमें आग लगा दी.

पोस्टर में लगाने वालो ने अपनी संस्था का नाम नही लिखा.लेकिन पोस्टर के शब्द इस प्रकार थे, “देवबंद में अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों को हम जानते हैं,हमलोग यही जानते हैं कि अलग अलग मदरसों में पढ़ रहे ये छात्र वहां किस नाम से रह रहे हैं,यदि ये लोग एक महीने के अंदर देश/शहर नहीं छोड़ते हैं,तो वे इसका परिणाम सालों तक याद रखेंगे.”

गौरतलब है कि दारुल उलूम देवबंद के वीसी इस वक्त 10 दिनों की बांग्लादेश यात्रा पर हैं.इस लिए ये पोस्टर का लगाया जाना अहम माना जा रहा है.छात्रों को इसके पीछे किसी भगवा संघठन के होने का अंदेशा है. सहारनपुर के एसएसपी ने कहा, “हमलोग मामले की जांच कर रहे हैं और जब तथ्य सामने आते हैं तो कार्रवाई की जाएगी.” इस मसले के बाद देवबंद के बांग्लादेशी छात्र डरे हुए हैं,वही पुलिस का कहना है कि वैध बांग्लादेशी छात्रों को डरने की कोई जरूरत नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here