आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन यूँ तो एक ऐसी पार्टी है जिसका सिर्फ़ एक ही सांसद लोकसभा में है। ये पार्टी पिछले कई सालों से वजूद में है लेकिन लोकसभा में इसके सांसदों की सँख्या एक ही रही। इतने पर भी पार्टी को पूरे देश के लोग जानते हैं। असल में ऐसा इसलिए है क्यूँकि इस पार्टी के अध्यक्ष हैं असद उद्दीन ओवैसी । ओवैसी बहुत अच्छे वक्ता हैं, और देश के अलग अलग हिस्सों में सभाएँ करते रहते हैं।अब चूँकि लोकसभा चुनाव नजदीक हैं तो प्रचार भी शुरू हो गया है।


लोकसभा चुनाव को लेकर हैदराबाद सीट की बात करें तो हैदराबाद लोकसभा सीट एक ऐसी लोकसभा सीट है जिस पर कई साल से ओवैसी का क़ब्ज़ा है। वो लगातार यहाँ से चुनाव जीतते रहे हैं और ये अंतर बढ़ता ही रहा है। उन्हें हराने की कोशिश कई लोगों ने की है लेकिन कोई उन्हें हरा नहीं सका है।


अब ओवैसी ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को चुनौती दी है। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष को चुनौती दी है कि उनमें अगर हिम्मत है तो वो हैदराबाद से चुनाव लड़ कर दिखा दें। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के फ़ैसले का समर्थन करते हुए कहा कि चुनावी पार्टियों को तैयार रहना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हर एक राजनीतिक पार्टी को चुनाव के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बयान पर टिप्पणी करते हुए ओवैसी ने कहा कि भाजपा ने 2002 के दंगों के बाद जल्दी चुनाव कराए थे।


इसके अलावा वो ट्विटर पर भी इस बारे में टिप्पणी करते हैं। वो लिखते हैं कि शाह में अगर दम है तो वो हैदराबाद लोकसभा चुनाव क्षेत्र से चुनाव लड़ लें। आपको बता दें कि ओवैसी इससे पहले राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी को भी हैदराबाद से चुनाव लड़ने के लिए कह चुके हैं। ओवैसी ने साथ ही कहा था कि अगर भाजपा और काँग्रेस दोनों मिल भी जाते हैं तो भी उन्हें कोई हरा नहीं सकता,उन्होंने कहाकि भाजपा अध्यक्ष हैदराबाद सीट जीतने का दावा करते है,वो खुद क्यूँ नही उनके खिलाफ लड़ जाते है।


ओवैसी इस बार भी अपनी जीत को लेकर कॉंफिडेंट नज़र आ रहे हैं. साथ ही उन्हें पूरी उम्मीद है कि तेलंगाना विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी अच्छा करेगी।ओवैसी के इस चैलेंज पर भाजपा ने चुप्पी साध ली है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here