नई दिल्ली…पूरी दुनिया में मीडिया का एक सेक्शन बुर्के को इस तरह प्रचारित करता है कि अगर इसे पहन लेंगे तो कोई भी काम करना मुश्किल होगा. लोकतान्त्रिक बेसिस पर हर किसी को अपनी बात कहने का हक है लेकिन अभी जो खबर हम बताने जा रहे हैं वो ऐसे लोगों की आँखें खोल देगी जो ये सोचते हैं कि बुर्का पहन कर कुछ नहीं किया जा सकता. मलेशिया की एक मुस्लिम लड़की ने सभी को ग़लत साबित कर दिया है.


18 साल की ये लड़की मलेशिया के क्लैंग शहर में रहती है. ये शहर राजधानी कुआलालंपुर के करीब ही है. कुआलालंपुर से महज़ 40 किलोमीटर दूर इस शहर में रहने वाली क़ुइरुन निशा ने एक ऐसा कमाल किया है जो लोग बिना बुर्के के नहीं कर पाते हैं.


उनका असल में सोशल मीडिया पर एक विडियो बहुत वायरल हो रहा है. उन्होंने बुर्का पहन्कल फुटबाल के साथ इस तरह के करतब दिखाए हैं कि लोग हैरान रह जाएँ. उनके इस करतब के लोग दीवाने हो गए हैं.


जब उनसे ये सवाल किया गया कि बुर्के की वजह से उन्हें कोई परेशानी होती है तो उन्होंने कहा कि मुझे इससे कोई परेशानी नहीं होती. उन्होंने कहा कि ये तो बहुत आम बात है और मायने ये रखता है कि आप इसे किस तरह से हैंडल करते हैं. मलेशिया एक इस्लामिक देश है. यहाँ की ६० प्रतिशत आबादी मुसलमान है.वो कहती हैं कि इस्लाम खेल खेलने से नहीं रोकता.


उन्होंने बताया कि वो 2016 से फुटबाल खेल रही हैं. वो बताती हैं कि youtube में वीडियोस देख देख कर फुटबाल के ये करतब सीखी हैं. उन्होंने बताया कि परिवार भी उन्हें काफी सपोर्ट करता है. हालाँकि मलेशिया की टीम विश्व स्तर पर बहुत मज़बूत नहीं है लेकिन मलेशिया का सबसे पोपुलर सपोर्ट फुटबाल ही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here