समाजवादी पार्टी में अंदरूनी मतभेद को लेकर कई किस्म की बातें मीडिया में आ चुकी हैं। मीडिया में जिस प्रकार समाजवादी परिवार का बिखराव सुर्ख़ियों में आया है वो अपने आप में अप्रत्याशित था। समाजवादी पार्टी के दो फाड़ अगर देखें तो वो अखिलेश यादव और शिवपाल यादव को लेकर हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के कंट्रोल में पूरी पार्टी है लेकिन शिवपाल ख़ुद कंट्रोल चाहते थे, ना मिल पाने की सूरत में एक तरह का बवाल पार्टी में हुआ जिसके बाद समाजवादी पार्टी दो हिस्सों में बंट गयी।


अब शिवपाल यादव ने नया मोर्चा बना लिया है।ऐसा माना जाता है यादव समुदाय सपा का कोर वोटर है इस वर्ग के लिए जहाँ शिवपाल और अखिलेश में होड़ दिख रही है वही भाजपा भी लोकसभा चुनाव को लेकर इस समुदाय पर ढोरे डाल रही है.लेकिन इस बीच यादव महासभा का बड़ा ब्यान आया है.प्रांतीय यादव महासभा के प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट डीपी यादव ने कहा कि यादव समाज पूरी तरह से अखिलेश यादव के साथ है।


उन्होंने कहा कि नेताजी मुलायम सिंह यादव का अक्स अखिलेश में देखने को मिलता है। उन्होंने कहा कि पूरे देश की निगाह अखिलेश पर है। उन्होंने सेक्युलर मोर्चे के सवाल पर जवाब देते हुए कहा कि जैसे अमर सिंह और जयप्रदा का मोर्चा पूरी तरह विफल हुआ। शिवपाल के सेक्युलर मोर्चा पर तंज़ करते हुए कहा कि मौजूदा माहौल में अगर ये रजिस्टर हो जाये तो बहुत बड़ी बात है।

यादव महासभा अध्यक्ष-डीपी यादव

उन्होंने कहा कि इसको रजिस्टर करवाने के लिए शिवपाल को आरएसएस से लोग बुलाने पड़ेंगे। इशारों इशारों में डी पी यादव ने कह दिया कि शिवपाल जो कर रहे हैं उससे फ़ायदा भाजपा को होने वाला है।उन्होंने भाजपा पर यादव समुदाय के साथ छल करने का आरोप लगाया,आपको बता दें कि शिवपाल और अखिलेश में सुलह की कोशिशें चल रही हैं लेकिन शिवपाल किसी तरह मानते नज़र नहीं आ रहे। ऐसे में जानकार मान रहे हैं कि वो भाजपा के इशारे पर काम कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here